मंगलवार, 14 मई 2013

दिया बन जल रहा हूँ रात के किनारे पर ....




दिशाएँ अनगिनत 
पर रुकावट भी सहस्त्र 
ईश्वर देता है 
पर प्रयास का अर्घ्य भी माँगता है 
कोई इसे हां मान लेता है 
कोई जीत की आहटें पाता है 
दुनिया दो है ....... एक प्रत्यक्ष 
दूसरा अप्रत्यक्ष - जिसमें प्रवेश निशेध नहीं 
बस सामर्थ्य और विश्वास की ज़रूरत है ....

                 रश्मि प्रभा 


दिया बन जल रहा हूँ
रात के किनारे पर 
पर एक परिधि है मेरी  
जहाँ तक पहुँच कर 
रुक जाता हूँ 
थम जाता हूँ 
और तिमिर आकाश का विस्तार 
मुझे संघर्ष करने को 
मजबूर कर रहा होता है

मैंने आँखें खोल रखी हैं 
मगर कहाँ कुछ दिखता है 
एक सीमा के बाहर

दो अलग अलग दुनिया हैं 
मेरे लिए  
एक दृश्य 
एक अदृश्य ....
(जिसका अपना अस्तित्व है)
मैं किसे अपना जानूँ  
किसे सच मानूँ

जहाँ एक ओर 
शून्य विस्तार पाता जा रहा है 
वहीं मेरी दृष्टि 
(शायद शून्य से भी अधिक विस्तृत)
सीमाओं में सिमटी जा रही है

मैं किसे सच मानूँ 
उस शून्य को 
या फिर अपनी दृष्टि को ?

मैं आज भी ...
दिया बन जल रहा हूँ 
रात के किनारे पर 


शिवनाथ कुमार

10 टिप्‍पणियां:

  1. मैं आज भी दीया बन जल रहा हूँ...काफी उम्दा और गहरी रचना ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. बस सामर्थ्य और विश्वास की ज़रूरत है ....

    बहुत ही सही बात कही आपने
    धन्यवाद मैडम, मेरी पोस्ट को यहाँ स्थान देने के लिए
    सादर आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बस सामर्थ्य और विश्वास की ज़रूरत है ....

    बहुत ही सही बात कही आपने
    धन्यवाद मैडम, मेरी पोस्ट को यहाँ स्थान देने के लिए
    सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  4. gehrai say soochay tho aise prashn uthte hai man mey........sundar rachna

    उत्तर देंहटाएं
  5. मैं आज भी ...
    दिया बन जल रहा हूँ
    रात के किनारे पर
    बेहद गहन भाव ...
    आभार आपका इस प्रस्‍तुति के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  6. मैं किसे सच मानूँ
    उस शून्य को
    या फिर अपनी दृष्टि को ?
    ..सच सच को किसी परिधि में बंधना आसां नहीं ...
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  7. आदरेया आपकी यह रचना को कुछ गति देते हुए 'निर्झर टाइम्स' पर लिंक किया या है।
    कृपया http://nirjhar-times.blogspot.com पर पधारें,आपकी प्रतिक्रिया का सादर स्वागत् है।
    सादर

    उत्तर देंहटाएं