मंगलवार, 22 जनवरी 2013

यदि सच न बोलने की और सच न स्वीकारने की गीता /कुरआन /बाइबिल या संविधान की कसम खा रखी है तो दीगर बात है ...





"यदि सच न बोलने की और सच न स्वीकारने की गीता /कुरआन /बाइबिल या संविधान की कसम खा रखी है तो दीगर बात है ...अगर साम्प्रदायिकता को कानी आँख से देखने की कसम खा राखी है तो दीगर बात है ... वरना क्या यह गलत है कि बाबरी मस्जिद ढहाई जाने से पहले औरंगजेब ने 6000 से भी अधिक हिन्दू मंदिर नहीं तोड़े ?...क्या यह गलत है कि इस्लाम कबूल करने से मना करने पर कई सिख हिन्दुओं के सर कलम करवाए गए ? क्या यह गलत है कि अकेले जम्मू-कश्मीर में गुजरे सालों में 210 से भी अधिक मंदिर तोड़े गए ? ...क्या यह गलत है कि जम्मू-कश्मीर में हिन्दुओं को अपनी औरते छोड़ कर पलायन कर जाने के धमकी भरे पोस्टर हिन्दुओं के घर पर मुसलमान आतंकवादीयों ने नहीं लगाए ? ...क्या यह गलत है कि लाखों कश्मीरी हिन्दू मुसलमान आतंकियों की वजह से जम्मू -कश्मीर से बेघर होकर देश के अन्य प्रान्तों में शरणार्थी है ?...क्या यह गलत है कि जम्मू -कश्मीर में सामान्य दिन तो छोड़ दो स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस पर भी मुसलमान आतंकवादी तिरंगा नहीं फहराने देते ?... क्या यह गलत है कि हिन्दुओं को अपने ही देश में अपने आस्था के तीर्थ अमरनाथ दर्शन करने के लिए मुसलमान आतंकियों के हाथो बड़ी संख्या में सामूहिक क़त्ल-ए-आम का शिकार नहीं होना पड़ता ? ...क्या यह गलत है कि हिन्दुओं को अमरनाथ और वैष्णव देवी के दर्शन के लिए जज़िया नहीं देना पड़ता ? ...क्या यह गलत है कि मुसलमानों को हज यात्रा के लिए जो सब्सिडी दी जाती है उसके लिए भी धन जुटाने के लिए हिन्दुओं से भी टैक्स की उगाही होती है ? ...क्या यह गलत है कि गुजरात के चर्चित दंगों की शुरुआत गोधरा में रेल से यात्रा कर रहे 65 हिन्दू तीर्थ यात्रियों को मुसलमानों द्वारा ज़िंदा जला देने पर हुयी थी ? ...क्या यह गलत है कि मुहम्मद साहब के द्वारा स्थापित मस्जिद चरार-ए-शरीफ को एक मुसलमान आतंकी मस्तगुल ने जला कर राख कर दिया तो मुसलमान चुप रहे ? ...क्या यह गलत है कि राम जन्मभूमि (अयोध्या ) और कृष्ण जन्मभूमि (मथुरा ) पर मस्जिद नहीं बनाईं गईं ? ...क्या यह गलत है कि इस विराट भू-भाग और क्षेत्रफल वाले इस देश में मस्जिद बनाने के लिए जगह की कमी तो थी नहीं ? ...क्या यह गलत है कि कभी हिन्दुओं ने किसी मस्जिद को तोड़ कर कहीं मंदिरनहीं बनाया ? ...क्या यह गलत है कि ईसाईयों ने भी कभी कोई मंदिर या मस्जिद तोड़ कर चर्च नहीं बनाया ? ...क्या यह गलत है कि इस देश में जब और जहां-जहां मुसलमानों का राज्य था वहाँ हजारों मन्दिर तोड़े गए ...आज़ादी के बाद इस देश में जम्मू -कश्मीर में 200 से भी अधिक मंदिर तोड़े गए जबकि गुजरात में गोधरा काण्ड के बाद भड़की प्रति हिंसा में भी एक भी मस्जिद नहीं तोडी गयी ? ...क्या यह गलत है कि गुजरात में गोधरा में हिन्दू तीर्थ यात्रियों को ज़िंदा जलाने के बाद भड़की प्रति हिंसा में भी कोई मस्जिद नहीं तोड़ी गयी ?...क्या यह गलत है कि हिन्दुओं द्वारा बाबरी मस्जिद तोड़े जाने से पहले देश के विभिन्न हिस्सों में मुसलमान हजारों मंदिर तोड़ चुके थे ? ...क्या यह गलत है कि एक बाबरी मस्जिद का तोड़ा जाना हजारों मन्दिरों के तोड़े जाने से उत्पन्न प्रति हिंसा थी ? ...क्या यह गलत है कि गुजरात के दंगे गोधरा काण्ड से शुरू हुए थे और वह गोधरा में ज़िंदा गए 65 हिन्दुओं की घटना से उत्पन्न प्रति हिंसा थी ? ...अगर मुसलमानों का आतंकवाद यों ही जारी रहा और वोट बैंक की लालच में राजनीति ने साम्प्रदायिकता को कानी आँख से देखा तो प्रति हिंसा और प्रति आतंकवाद होना तय है ...जब सह अस्तित्व के सारे प्रयास असफल हो जाएँगे तो लोग सरकार से शिकायत करेंगे और जब सरकार भी असहिष्णु होगी तो प्रति हिंसा होगी ... मुसलमान आतंकवाद की हिंसा से घायल राष्ट्र चीख रहा है ...यह चीख ...यह न्याय की गुहार ...यह शान्ति की अपील ...यह सर्व धर्म समभाव की अपेक्षा अगर सरकार ने अब नहीं सुनी तो "प्रति हिंसा/ प्रति आतंकवाद" के अलावा और कोई उपाय नहीं है " ----- 

राजीव चतुर्वेदी
http://rajiv-chaturvedi.blogspot.in/

2 टिप्‍पणियां:

  1. यह सर्व धर्म समभाव की अपेक्षा अगर सरकार ने अब नहीं सुनी तो "प्रति हिंसा/ प्रति आतंकवाद" के अलावा और कोई उपाय नहीं है
    और कोई उपाय है ही नहीं ....... :((

    उत्तर देंहटाएं
  2. भारत विभाजन के समय थोथे आदर्शों की उदारवादिता और अदूरदर्शिता ने जो विष बेल बो दी थी उसके विषाक्त फल खाने की विवशता भारत के हिन्दुओं का दुर्भाग्य है जिसके लिये कहीं न कहीं वे स्वयं भी कम उत्तरदायी नहीं। गोरी चमड़ी के प्रति श्रेष्ठता का हठपूर्ण आग्रह और स्वामिभक्ति से भारत आज भी मुक्त नहीं हो सका। प्रतिहिंसा समस्या का निर्दुष्ट समाधान नहीं है,देश को ग्रहयुद्ध में नहीं झोका जा सकता। हिंसा-प्रतिहिंसा कभी न समाप्त होने वाला एक ऐसा दुष्चक्र है जो हर स्थिति में क्षति के साथ ही रोकने के लिये विवश होना पड़ता है। यह भी सत्य है कि हमारे बीच विश्वासघातियों की विराट फ़ौज है, गोरी चमड़ी को सर्वश्रेष्ठ स्वीकारने वाले हिन्दुओं की कमी नहीं है। कोई राजनीतिक उपाय ही खोजना होगा। खोखले आदर्शों को तिलांजलि देकर व्यावहारिक धरातल पर आकर कुछ ठोस निर्णय लेने होंगे। कौन करेगा यह सब? अपने वोट का मूल्य जाने बिना इस प्रश्न का उत्तर नहीं मिलेगा। वर्तमान नीतियाँ देश के लिये, हिन्दुओं के लिये, भारत के गौरव के लिये और हमारी प्राचीनतम संस्कृति के लिये हैं ही नहीं। इनका उद्देश्य किसी भी तरह शासन करना और घोटालों से अपनी तिजोरियाँ भरना है। सामंतवादी सोच और आचरण अभी भी भारत को श्रापित किये है। स्तय के प्रति दृढ़ इच्छ शक्ति और आत्मगौरव का बोध हमारी प्राथमिकता होनी चाहिये थी जो कि नहीं हो सकी।
    राजीव जी के एक भी प्रश्न का उत्तर कोई मुसलमान नहीं दे सकेगा। ये उत्तर स्वयं हमें पूरी दुनिया को बताने होंगे जिससे कि लोग सत्यता को जान सकें और विश्व जनमत भारत के हिन्दुओं के पक्ष में निष्पक्षता से तैयार हो सके।

    उत्तर देंहटाएं