बुधवार, 9 मई 2012

मतलब..



शब्द नही है प्यार है मेरा,शब्दों का संसार है मेरा, अगणित बातें कहने को(कलम)ब्लॉग ही अब आधार है मेरा.




मतलब,
मतलब ये है कि दुनिया में जो भी कुछ हो रहा है, वो सिर्फ मतलब के लिए ही हो रहा है,
मतलब ये कि आप अगर इस लेख को पढ़ रहे है तो मतलब से ही पढ रहे होंगे
और अगर नही पढेंगे तो भी मतलब से ही नही पढेंगे,
पढ़ने का मतलब नई जानकारी प्राप्त करना, ना पढ़ने का मतलब बिजली बचाना, समय बचाना...
खैर मेरा मतलब तो मतलब के बारे में लिखने से है..सो मै तो अपना मतलब पूरा किये लेता हूँ,
आप भी तो अपना कर रहे है...
सब कहते है दुनिया मतलब की है, पहले मै नही समझता था,
पर अब समझने लगा हूँ, कि संसार का सारा सार बेमतलब नही है,
विवाह मतलब से,
बच्चे मतलब से,
बच्चों की पढाई मतलब से,
दोस्तों से दोस्ती और लड़ाई मतलब से,
गाना मतलब से,
खाना मतलब से,
हंसना मतलब से,
रोना मतलब से,
जागना मतलब से,
सोना मतलब से,
बैठना मतलब से,
चलना मतलब से,
गिरना मतलब से,
सम्हलना मतलब से,
यानी कम शब्दों में ये समझिए कि समझना भी मतलब से
ना समझना भी मतलब से, कभी कभी सोंचता हूँ कि क्या निस्वार्थ कुछ भी नही,
फिर ये समझ में आता है कि सोंचना भी तो बेमतलब नही,
बिलकुल पक्का है कि मतलब के बारे में लिखने में भी तो मतलब है,
किसी को नाम का मतलब होता है किसी को दाम का मतलब होता है,
और मेरा तो मानना यहाँ तक है कि, जो लोग अन्ना हजारे या बाबा रामदेव नही बन पाते,
वो ब्लोगर बन जाते है, मतलब कुछ हुआ तो ठीक, नही तो प्रचार तो हो ही जाता है,
या फिर शौक पूरा करने का मतलब तो है ही,
अच्छा आप ही बताईये बिना मतलब भी कुछ होता है क्या?
बिना मतलब के तो पत्नी बात भी नही करती,
बिना मतलब के गाय घास भी नही चरती,
बिना मतलब के बेटा बाप से नही डरता,
बिना मतलब के सैनिक सीमा पे नही मरता,
बिना मतलब ब्लोगर ब्लॉग नही लिखता,
बिना मतलब के मतलब नही दिखता,
मेरे शहर की सारी सड़कें खोद डाली गई है, अब आप सोचोगे कि सड़कों की खुदाई
से किसी को क्या मतलब,
मतलब है जी, बहुत बड़ा मतलब है, सड़के खुदेंगी लोग गिरेंगे, चुटहिल होंगे,
रिक्शा या आटो से अस्पताल जाएंगे, बहुतेरे ग़रीबों का भला होगा,
नर्सिंगहोम और डॉक्टरों की चांदी हो जाएगी,
नगर निगम के अफसरों का कमीशन पक्का होगा,
वाहन जल्दी खराब होंगे, गरीब मकेनिकों का धंधा चल निकलेगा,
सड़क खुदाई के विरोध में नेता आंदोलन करेंगे,नेतागीरी की दुकान चल जाएगी,
मतलब ये कि सड़क खुदाई से हजारों लोगों का मतलब पूरा हो जाएगा,
मतलब ये कि हर,
बात में मतलब,
मुक्का लात में मतलब,
मतलब में मतलब,
बेमतलब में मतलब,
मतलब ये कि बे मतलब कुछ भी नही,
मुझे लगता है कि अब मेरा भी मतलब हो गया है, और मुझे कुछ दूसरे मतलब भी देखने है,
इसलिए अब आप भी अपने मतलब को मतलब से देखिये, मेरा मतलब तो आप समझ ही गए होंगे..
यहाँ मतलब से रोटी है मतलब से दाना है,
सच है दोस्तों बड़ा मतलबी जमाना है...


राजेंद्र अवस्थी
http://harkand.blogspot.in/

6 टिप्‍पणियां:

  1. यहाँ मतलब से रोटी है मतलब से दाना है...

    उत्तर देंहटाएं
  2. शायद इस बेमतलब सी रचना के लिखने का भी कुछ मतलब ज़रूर होगा..........
    :-)

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस रचना को पढ़ने के पीछे मेरा कोई मतलब नहीं...अच्छी लगी इसलिए पढ़ लिया:)

    उत्तर देंहटाएं
  4. *मतलब *ने *मतलब
    *मतलब *से *मतलब
    *मतलब *का *मतलब
    *मतलब *के लिए *मतलब
    *मतलब *को *मतलब
    *मतलब *हे *मतलब
    *मतलब *ओह *मतलब
    *मतलब *आह *मतलब
    *मतलब *और *मतलब
    *मतलब *बस *मतलब
    *मतलब *ही *मतलब

    उत्तर देंहटाएं
  5. हर बात का मतलब ...बढ़िया प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच है दोस्तों बड़ा मतलबी जमाना है... वाह बहुत सी सच्‍चाईयों को समेटे ये मतलब भरी बातें ... प्रस्‍तुति के लिए आपका आभार ।

    उत्तर देंहटाएं